बोरिंग सेक्स लाइफ

चुलबुली ट्रिक्स – जो वापस से रंग भर देंगी आपकी बोरिंग सेक्स-लाइफ में

माइग्रेन

माइग्रेन होगा चुटकी में गायब अगर आपने अपनाए ये घरेलू उपाय

माइग्रेन की परेशानी इन दिनों लोगों में आम सुनने को मिल रही है। यह किसी भी उम्र के शख्स को हो सकता है। अचानक ही सिर के आधे हिस्से में जोरदार दर्द शुरू हो जाता हैं जो लगातार कई घंटों तक बना रह सकता है। इसका दर्द काफी तकलीफदेह हो सकता है। एक तिहाई लोगों को ऑरा के माध्यम इसका पूर्वाभास हो जाता है, जिससे गति पैदा करने वाली नसों में अवरोध होता है, जिससे यह संकेत मिलता है कि शीघ्र ही सिर दर्द होने वाला है।

मोना गुरु आज आपको माइग्रेन के इलाज के कुछ घरेलू नुस्खे तो बताने जा ही रही है, साथ ही आपको न्यूरोपैथी के एक बिलकुल साधारण तरीके का विडियो भी दिखाने जा रही है, इससे भी आपको माइग्रेन में तुरंत राहत मिलेगी



तो पहले शुरू करते है घरेलू नुस्खो से, फिर अंत में देखेंगे न्यूरोपैथी का बिलकुल आसान विडियो

सिर की मालिश

माइग्रेन उपचार

सिर की मालिश माइग्रेन को दूर करने के लिए एक बेहद ही प्रभावशाली तरीका है, आप पिपरमेंट आयल अथवा नवरत्न तेल के साथ सिर की मालिश कीजिये, ये आपके तनाव को दूर करेगा जिससे आपको माइग्रेन में तुरंत राहत मिलेगी. इसके अलावा आप पुदीने के पत्ते की चाय भी दिन में दो बार बना कर पीयेंगी तो ये भी आपको माइग्रेन में काफी राहत पहुचाएंगी.



सेब का सिरका

माइग्रेन उपचार

ये भी माइग्रेन में राहत पहुंचाने में एक बेहद कारगर घरेलू इलाज है, एक चम्मच सेब का सिरका, एक चम्मच नीबू का रस और एक चम्मच शहद इन सबको एक गिलास पानी में मिलाकर पीजिये तुरंत आराम मिलेगा



कोल्ड कॉम्प्रेस

माइग्रेन उपचार

माइग्रेन दूर करने में कोल्ड कॉम्प्रेस का तरीका भी बेहद इफेक्टिव है, एक तोलिये में आठ से दस बर्फ के टुकड़े ले उसको लपेट ले और इससे सिर के दाई और उपर की और रखकर माथे को ठंडक दे, तुरंत आराम मिलेगा

आयल पुलिंग

माइग्रेन उपचार

ये भी एक आयुर्वेदिक तरीका है, इसमें आप एक चम्मच तिल का तेल अथवा नारियल का तेल कच्चा मुहँ में ले और उसे तीन से चार मिनिट लगातार अपने मुहं के हर कोने में घुमाए, ये वास्तव में डीटोक्सीफिकेशन का एक तरीका है, इससे भी तुरंत राहत मिलती है

विशेष : अगर मुहं में तेल लेने में अजीब लगता हो तो आप यही प्रक्रिया किसी भी अच्छे माउथवाश के साथ भी कर सकतीं है, असर वही रहेगा



अश्वगंधा

माइग्रेन उपचार

अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और पूरे संसार ने इसको प्राकृतिक रूप से तनाव दूर करने वाली प्रणाली के तौर पर स्वीकार कर लिया है, ये आपके दिमाग को तो शांत करती है साथ ही हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बेहद शक्ति प्रदान करती है, रोजाना एक गिलास दूध में इसका एक छोटा चम्मच चूर्ण डालकर सेवन करे.

ब्राह्मी

माइग्रेन उपचार

ब्राह्मी भी दिमाग को शक्ति देने वाली विश्वप्रसिद्ध जड़ी बूटियों में शामिल है, इसका उपयोग बच्चों की पढाई क्षमता को भी बढ़ाने के लिए बिलकुल आम है, हर दिन दूध में आधा चम्मच ब्राहमी डालकर सेवन कीजिये .



अब देखिये माइग्रेन ठीक करने के न्यूरोपैथी तरीके का विडियो जो आपको माइग्रेन से तुरंत ही राहत दे देगा

तो सखियों ये थी माइग्रेन उपचार विषय पर मोना गुरु की विशेष पेशकश, उम्मीद करते है आपको पसंद आया होगा.

फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर शेयरिंग के लिए लिंक्स नीचे दिए गये है.

“मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है.

कमर दर्द

कमर दर्द कैसा भी हो – बिलकुल राम-बाण इलाज है ये बारह घरेलू नुस्खे

कमर दर्द की यह समस्या आजकल आम हो गई है। सिर्फ बड़ी उम्र के लोग ही नहीं बल्कि युवा भी कमर दर्द की शिकायत करते रहते हैं। कमर दर्द की मुख्य वजह बेतरतीब जीवनशैली और शारीरिक श्रम न करना है। अधिकतर लोगों को कमर के मध्य या निचले भाग में दर्द महसूस होता है। यह दर्द कमर के दोनों और तथा कूल्हों तक भी फ़ैल सकता है।



बढ़ती उम्र के साथ कमर दर्द की समस्या बढ़ती जाती है। नतीजा काम करने में परेशानी । कुछ आदतों को बदलकर इससे काफी हद तक बचा जा सकता है। आज हम आप को बताते हैं कि किन घरेलू नुस्खों को अपनाकर आप कमर दर्द से निजात पा सकते हैं।

waist pain

क्‍यों होता है कमर दर्द

* मांसपेशियों पर अत्यधिक तनाव।
* अधिक वजन।
* गलत तरीके से बैठना।
* हमेशा ऊंची एड़ी के जूते या सेंडिल पहनना।
* गलत तरीके से अधिक वजन उठाना।
* शरीर में लम्बे समय से बीमारियों का होना।
* अधिक नर्म गद्दों पर सोना।



कमर दर्द से बचने के 12 घरेलू उपाय

1. रोज सुबह सरसों या नारियल के तेल में लहसुन की तीन-चार कलियॉ डालकर (जब तक लहसुन की कलियां काली न हो जायें) गर्म कर लें। ठंडा होने पर इस तेल से कमर की मालिश करें।

2. नमक मिले गरम पानी में एक तौलिया डालकर निचोड़ लें। इसके बाद पेट के बल लेट जाएं। दर्द के स्थान पर तौलिये से भाप लें। कमर दर्द से राहत पहुंचाने का यह एक अचूक उपाय है।

waist pain



3. कढ़ाई में दो-तीन चम्मच नमक डालकर इसे अच्छे से सेक लें। इस नमक को थोड़े मोटे सूती कपड़े में बांधकर पोटली बना लें। कमर पर इस पोटली से सेक करने से भी दर्द से आराम मिलता है।

4. अजवाइन को तवे के पर थोड़ी धीमी आंच पर सेंक लें। ठंडा होने पर धीरे-धीरे चबाते हुए निगल जाएं। इसके नियमित सेवन से कमर दर्द में लाभ मिलता है।

5. अधिक देर तक एक ही पोजीशन में बैठकर काम न करें। हर चालीस मिनट में अपनी कुर्सी से उठकर थोड़ी देर टहल लें।

6. नर्म गद्देदार सीटों से परहेज करना चाहिए। कमर दर्द के रोगियों को थोड़ा सख्ते बिस्तर बिछाकर सोना चाहिए।

7. योग भी कमर दर्द में लाभ पहुंचाता है। भुन्ज्गासन, शलभासन, हलासन, उत्तानपादासन, श्वसन आदि कुछ ऐसे योगासन हैं जो की कमर दर्द में काफी लाभ पहुंचाते हैं। कमर दर्द के योगासनों को योगगुरु की देख रेख में ही करने चाहिए।

8. कैल्शियम की कम मात्रा से भी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, इसलिए कैल्शियमयुक्त चीजों का सेवन करें।

9. कमर दर्द के लिए व्यायाम भी करना चाहिए। सैर करना, तैरना या साइकिल चलाना सुरक्षित व्यायाम हैं। तैराकी जहां वजन तो कम करती है, वहीं यह कमर के लिए भी लाभकारी है। साइकिल चलाते समय कमर सीधी रखनी चाहिए। व्यायाम करने से मांसपेशियों को ताकत मिलेगी तथा वजन भी नहीं बढ़ेगा।



10. कमर दर्द में भारी वजन उठाते समय या जमीन से किसी भी चीज को उठाते समय कमर के बल ना झुकें बल्कि पहले घुटने मोड़कर नीचे झुकें और जब हाथ नीचे वस्तु तक पहुंच जाए तो उसे उठाकर घुटने को सीधा करते हुए खड़े हो जाएं।

11. कार चलाते वक्त सीट सख्त होनी चाहिए, बैठने का पोश्चर भी सही रखें और कार ड्राइव करते समय सीट बेल्ट टाइट कर लें।

12. ऑफिस में काम करते समय कभी भी पीठ के सहारे न बैठें। अपनी पीठ को कुर्सी पर इस तरह टिकाएं कि यह हमेशा सीधी रहे। गर्दन को सीधा रखने के लिए कुर्सी में पीछे की ओर मोटा तौलिया मोड़ कर लगाया जा सकता है।

इन सब उपायों को अपना कर आप भी कमर दर्द से कुछ निजात पा सकते है।



मोना गुरु के इन घरेलू नुस्खो को ट्राई कीजिये और यकीन मानिए आपका कमर दर्द बिलकुल छुमन्तर हो जाएगा, आपको अगर ये सलाहे अच्छी लगी हो तो आप इसे फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर शेयर करके आगे भी अपने मित्रों के साथ साझा कर सकते है, शेयरिंग के लिए आवश्यक लिंक्स नीचे दिए गये है.

“मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है.

कान दर्द

कान दर्द से अगर घर में कोई परेशान है तो अभी अपनाइए ये घरेलू नुस्खे, तुरंत आराम मिलेगा

कान दर्द का घरेलू उपचार : मित्रों एक जमाना वो था जब हमारे देश में सयुंक्त परिवार प्रथा प्रचलित थी, उस समय घर के सभी बड़े-बूढों का हमें पूरा सहयोग होता था, इस प्रकार की कोई भी समस्या आने पर वो लोग तुरंत अपने अनुभव के पोटले में से निकालकर कोई ना कोई घरेलू नुस्खा दे देते थे, जिससे हमे तुरंत आराम आ जाता था.


लेकिन अब वक्त की मांग और तेज जीवन की आपाधापी के चलते एकल परिवार प्रथा जन्म ले चुकी है, जहाँ की तेज लाइफ में हमे हमारे लिए ही समय नहीं है तो बड़े-बूढों को अपने साथ कैसे सम्भाले, इसी कारण अब उनके वो अनुभवों की जादुई पोटली हमारे पास नही है, तो इसी समस्या का हल देते हुए मोना गुरु का हमेशा प्रयास होता है की बड़े-बूढों के अनुभव की वही बाते हम इन्टरनेट के माध्यम से ही आप तक पहुंचाते रहें, इसी कड़ी में आज उस अनुभवों की जादुई पोटली में से मोना गुरु आपके लिए कान के दर्द का इलाज लेकर आई है. कान में दर्द होने पर काफी परेशानी होती है। सर्दी-जुकाम या किसी और वजह से कान में दर्द हो सकता है। कई बार तो यह पीड़ा काफी हल्की होती है लेकिन कई बार इससे काफी तेज दर्द होता है जिसे सहना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में कुछ घरेलू उपाय अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।



1. लहसुन
जब कान में तेज दर्द होने लगे तो लहसुन का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें मौजूद एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक गुण कान दर्द की समस्या को दूर करता है। इसके लिए थोडे़-से सरसों के तेल में लहसुन की 2-3 कलियां डालकर गर्म करें और तेल जब ठंडा हो जाए तो 2-3 बूंदे कान में डाल लें।Benefits of Garlic in Ear pain

2. तुलसी का रस
इसके लिए तुलसी की कुछ पत्तियों को पीसकर उनका रस निकाल लें और दिन में 2-3 बार इसे कान में डालने से दर्द दूर होता है।

Benefits of Basil in Ear pain



3. नीम
कान दर्द होने पर नीम की पत्तियां भी काफी फायदेमंद होती हैं। इसके लिए नीम की कुछ पत्तियों को पीसकर उसका रस निकाल लें और उसकी 2-3 बूंदे कान में डालें। इसके अलावा नीम के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

Benefits of Neem in Ear pain

4. प्याज
इसके लिए प्याज को कद्दूकस करके उसे एक पतले कपड़े में बांधकर पोटली बना लें और इसका रस निकाल लें। इस पोटली को रात को सोने से पहले कान के नीचे रखें। इससे कान दर्द में आराम मिलेगा।

Benefits of Onion in Ear pain



5. जैतून का तेल
जैतून का तेल बालों के लिए तो फायदेमंद होता ही है, इसके अलावा यह कान दर्द होने पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए जैतून के तेल को हल्का गर्म करके 3-4 बूंदें कान में डालें।

Benefits of Olive oil in Ear Pain

इस बातों का भी रखें ख्याल
कई बार इस समस्या को दूर करने के लिए आप एंटी-इंफ्लेमेट्री दवाइयों का सेवन करते है, जो कि गलत है। कान में इंफैक्शन होने पर किसी भी दवाई को लेने से पहले डॉक्टर का परामर्श लें।
उपरोक्त घरेलू नुस्खे आजमाने के बाद भी यदि आराम नही आ रहा है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करे.

उम्मीद है बड़े-बूढों के अनुभवों की इस पोटली से निकले ये इलाज आपको अच्छे लगे होगे, आप इन अनुभवों को फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर शेयर करके आगे भी अपने मित्रों के साथ साझा कर सकते है, शेयरिंग हेतु आवश्यक लिंक नीचे दिए गये है.

“मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है.

ब्यूटी फूड्स – इनका नियमित सेवन करिये और अपनी असली उम्र से दस साल छोटे दिखिये

ब्यूटी फूड्स – इनका नियमित सेवन करिये और अपनी उम्र से दस साल छोटे दिखिये

जैसा की नाम से ही स्पष्ट है “ब्यूटी फूड्स” अर्थात वो फ़ूड जिनमे एंटी एजिंग प्रॉपर्टी की अच्छी मात्रा तो है ही साथ ही साथ ये ग्लोइंग स्कीन और अच्छे बालो के लिए जरूरी सभी पोषक तत्वों से भी भरपूर है , कोशिश कीजिये की इन दिए गये ब्यूटी फूड्स में से किसी ना किसी एक फ़ूड की मात्रा आपके द्वारा लिए जा रहे हर भोजन में अवश्य हो, मात्र एक महिना कर के देखिये नतीजे आपको तो क्या आपके सभी चाहने वालो को भी चौंका देंगे.


करेला
* करेला रक्त शुद्ध करता है इसलिए इसके सेवन से मुंहासे नहीं आते.
* विटामिन ए से भरपूर करेला एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट है और त्वचा को स्वस्थ बनाए रखता है.
* करेला एंटी एजिंग का भी काम करता है. इसके सेवन से त्वचा जवां नज़र आती है.
* मुंहासों के गहरे दाग़ पर करेले के पत्ते पीसकर लगाने से दाग़ ग़ायब हो जाते हैं.

ब्यूटी फूड्स

परवल
* करेले की तरह परवल भी रक्त शुद्धि का काम करता है, जिससे त्वचा संंबंधी परेशानी नहीं होती है.
* परवल का नियमित सेवन करने से स्किन एलर्जी से छुटकारा मिलता है.
* दाद-खाज पर परवल की पत्तियों का रस लगाने से यह पूरी तरह ठीक हो जाता है.

ब्यूटी फूड्स

मेथी
* मेथी के सेवन से पेट साफ़ रहता है, जिससे त्वचा स्वस्थ, निखरी व कांतिमय नज़र आती है.
* मेथी के सेवन से फोड़े, फुंसी, मुंहासे आदि होने की संभावना कम हो जाती है.
* झांइयों पर मेथी का पत्ते पीसकर लगाने से इनका गहरा रंग हल्का हो जाता है.
* मेथी के पत्तों के रस से या फिर मेथी को पीसकर बाल धोने से बाल चमकदार और मज़बूत बनते हैं.

ब्यूटी फूड्स

मूली
* मूली की सब्ज़ी खाने या मूली का रस पीने से रक्त शुद्ध होता है और मुंहासे नहीं आते हैं.
* एक महीने तक लगातार मूली खाने से मुंहासों के दाग़-धब्बे कम हो जाते हैं.
* मूली को काटकर मुंहासों पर रगड़ने से मुंहासे ग़ायब हो जाते हैं.
* इसी तरह मूली को पीसकर झांइयों पर लगाने से झांइयां भी कम हो जाती हैं.
* मूली के रस में तिल का तेल मिलाकर बालों पर मसाज करें. इससे बालों का झड़ना कम होगा. साथ ही जुंओं की समस्या भी दूर हो जाएगी.

ब्यूटी फूड्स

लहसुन
* एंटी ऑक्सीडेंट लहसुन खाने से त्वचा ख़ूबसूरत नज़र आती है.
* नियमित लहसुन के सेवन से न स़िर्फ आपकी, बल्कि त्वचा की उम्र में लंबी हो जाती है यानी त्वचा जवां नज़र आती है.
* मुहांसे या फुंसियों पर लहसुन की कली पीसकर लगाने से आराम मिलता है.

ब्यूटी फूड्स



टमाटर
* विटामिन ए और सी से भरपूर टमाटर का सेवन करने से मुंहासे नहीं होते और त्वचा स्वस्थ बनी रहती है.
* टमाटर के नियमित सेवन से त्वचा दमकती है.
* चेहरे पर टमाटर काटकर लगाने से न स़िर्फ त्वचा में निखार आता है, बल्कि ब्लैक एंड व्हाइड हेड्स की भी छुट्टी हो जाती है.
* चेहरे पर टमाटर लगाने से खुले रोम छिद्र बंद होते हैं.

ब्यूटी फूड्स

अंगूर
* नेचुरल स्किन गार्ड अंगूर सन डैमेज से त्वचा की रक्षा करता है.
* एंटी एजिंग अंगूर के सेवन से त्वचा का एजिंग प्रोसेस (बढ़ती उम्र के संकेत) धीमा हो जाता है, जिससे लंबे समय तक त्वचा जवां नज़र आती है.
* विटामिन सी से भरपूर अंगूर खाने से न स़िर्फ त्वचा व बाल, बल्कि आंखें भी ख़ूबसूरत नज़र आती हैं.

ब्यूटी फूड्स

नींबू
* नींबू के सेवन से विटामिन सी की पूर्ति होती है, इससे त्वचा स्वस्थ बनी रहती है.
* चेहरे पर नींबू का रस लगाने से मुहांसे के दाग़ हल्के हो जाते हैं.
* नींबू का रस लगाने से चेहरे त्वचा और बाल दोनों शाइनी नज़र आते हैं.
* बाल में नींबू का रस लगाने से बाल डैंड्रफ से मुक्त हो जाते हैं.

ब्यूटी फूड्स



आंवला
* आंवला न स़िर्फ त्वचा, बल्कि बालों के लिए भी फ़ायदेमंद होता है.
* आंवला खाने से त्वचा दमकती है तथा बाल लंबे, घने और मज़बूत बनते हैं.
* आंवले के नियमित सेवन से झुर्रियों की शिकायत भी नहीं होती है.
* चेहरे पर आंवला पाउडर लगाने से त्वचा में निखार आता है.

ब्यूटी फूड्स

अदरक
* एंटी एजिंग अदरक के सेवन से त्वचा लंबे समय तक जवां बनी रहती है.
* रोज़ाना सुबह खाली पेट अदरक चबाने से त्वचा आकर्षक और निखरी नज़र आती है.
* अदरक का रस काफ़ी असरदार होता है. इसे चेहरे पर लगाने से त्वचा चमकदार नज़र आती है.

ब्यूटी फूड्स

प्रिय मित्रों ये थी एंटी एजिंग फूड्स की जानकारी खास मोना गुरु के पाठको के लिए,ऐसा बिलकुल भी नही है की आपको ये सारे ब्यूटी फूड्स रोज ही खाने है, कोशिश कीजिये की कम से कम इनमे से कोई भी एक आपके द्वरा लिए गये हर भोजन में जरुर हो , ज्यादा होगा तो बहुत ही अच्छा है. इस सलाह को फॉलो कीजिये और मात्र एक माह में अपनी त्वचा में फर्क देखिये .

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो दिए गये लिंक्स पर क्लिक करके आप इसे व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर आगे भी अपने मित्रों के साथ भी भी शेयर कर सकते हैं, इसके अतरिक्त यदि आप लोग कोई सवाल पूछना चाहे अथवा कोई सुझाव देना चाहे तो नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में कमेंट करके आप अपनी बात मोना गुरु तक पहुंचा सकते है.

“मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है. 

 

सिर दर्द

सिर दर्द – इन घरेलू नुस्खो से ऐसे हो जाएगा गायब जैसे कभी था ही नहीं

सिर दर्द असल में नर्वस सिस्टम और गर्दन से जुड़ी हुई समस्या है. सुबह-सुबह सिर दर्द के साथ उठना मतलब पूरा दिन बर्बाद हो जाना. सिर दर्द एक बहुत सामान्य समस्या है पर कई बार ये इतना तेज होता है कि बर्दाश्त कर पाना मुश्‍क‍िल हो जाता है.

यूं तो बाजार में कई तरह की दवाइयां मौजूद हैं जो सिर दर्द में राहत के लिए ली जाती हैं लेकिन हर बार दवाई लेना भी सही नहीं है. शरीर में बहुत अधिक बाहरी लवण का जाना दूसरी बीमारियों का कारण बन सकता है. पर आप चाहें तो ऐसे कई घरेलू उपाय हैं जिनसे आप अपना सिर दर्द चुटकी में दूर कर सकते हैं.



ये उपाय इतने आसान हैं कि आप इन्हें अपने ऑफिस में काम करते-करते भी आजमा सकते हैं. पर एक बात जो सबसे महत्वपूर्ण है वो ये कि आप अपने मस्तिष्क से हर बुरे विचार को निकाल दीजिए और शांत रहने की कोशिश कीजिए. इन घरेलू उपायों की अच्छी बात ये है कि ये सभी पूरी तरह सुरक्षित और कारगर हैं.

1. एक्यूप्रेशर के द्वारा
सालों से लोग सिर दर्द में राहत के लिए एक्यूप्रेशर का प्रयोग करते आ रहे हैं. सिर दर्द होने की स्थिति में आप अपनी दोनों हथेलियों को सामने ले आइए. इसके बाद एक हाथ से दूसरे हाथ के अंगूठे और इंडेक्स फिंगर के बीच की जगह पर हल्के हाथ से मसाज कीजिए. ये प्रक्रिया दोनों हाथों में दो से चार मिनट तक दोहराइए. ऐसा करने से आपको सिर दर्द में आराम मिलेगा.



2. पानी के द्वारा
कुछ-कुछ देर पर पानी की थोड़ी-थोड़ी मात्रा पीने से भी सिर दर्द में आराम मिलता है. एकबार आपका शरीर हाइड्रेटेड हो जाएगा तो सिर का दर्द धीरे-धीरे कम होने लगेगा.



3. लौंग के द्वारा
तवे पर लौंग की कुछ कलियों को गर्म कर लीजिए. इन गर्म हो चुकी लौंग की कलियों को एक रूमाल में बांध लीजिए. कुछ-कुछ देर पर इस पोटली को सूंघते रहिए. आप पाएंगे कि सिर का दर्द कम हो गया है.



4. तुलसी की पत्त‍ियों द्वारा
आपने अक्सर लोगों को सिर दर्द होने पर चाय या कॉफी पीते देखा होगा. एकबार तुलसी की पत्त‍ियों को पानी में पकाकर उसका सेवन कीजिए. ये किसी भी चाय और काॅफी से कहीं अधिक कारगर और फायदेमंद है.

5. सेब पर नमक डालकर खाने से
अगर बहुत कोशिश के बाद भी आपको सिर दर्द जाने का नाम नहीं ले रहा है तो एक सेब काट लें और उस पर नमक डालकर खाएं. सिर दर्द में राहत पाने के लिए ये एक बहुत कारगर उपाय है.



6. काली मिर्च और पुदीने की चाय
सिर दर्द में काली मिर्च और पुदीने की चाय का सेवन करना भी बहुत फायदेमंद होता है. आप चाहें तो ब्लैक टी में पुदीने की कुछ पत्तियां मिलाकर भी ले सकते हैं.

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर शेयर करके आगे भी अपने मित्रों के साथ साझा कर सकते है, शेयरिंग के लिए आवश्यक लिंक नीचे दिए गये है.

 

अनहेल्दी आदतें

अनहेल्दी आदतें – जिनको आज ही छोडकर भविष्य में कई बीमारियों से बचा जा सकता है

अनहेल्दी आदतें – जिनको आज ही छोडकर भविष्य में कई बीमारियों से बचा जा सकता है

सखियों आज इस लेख के माध्यम से मैं आपको परिवार की उन छोटी-छोटी अनहेल्दी आदतों के बारे में बताने जा रही हूँ, जो सुनने में बेहद छोटी लगती है लेकिन इनके भावी परिणाम उतने ही घातक होते है, ये आदते धीरे-धीरे करके हमारे शरीर में अनेक बीमारियों को आमंत्रित करती रहती है और एक दिन सिर्फ इन आदतों की वजह से शरीर उन बीमारियों का घर बन जाता है. आप सबसे मेरा निवेदन है इस लेख को पूर्ण गंभीरता से पढ़िए और अपने परिवार को इन आदतों से बचाइए.

ब्रेकफास्ट न करना :

अनहेल्दी आदतें

इस बारे में डायटीशियन्स व न्यूट्रीशनिस्ट का कहना है कि ब्रेकफास्ट न करने से वज़न बढ़ना, हदय रोग, चिड़चिड़ापन, मूड स्विंग होना, एनर्जी लेवल कम होना जैसी समस्याएं हो सकती हैं. हाल ही में हुए एक अध्ययन से यह साबित हुआ है कि जो लोग ब्रेकफास्ट नहीं करते हैं, उनमें बैड कोलेस्ट्रॉल का स्तर जल्दी बढ़ता है और रोज़ाना नाश्ता करनेवाले लोगों की तुलना में उन्हें डायबिटीज़ होने की संभावना भी अधिक होती है. जो लोग डायटिंग के नाम पर ब्रेकफास्ट नहीं करते, उन्हें विशेष रूप से इस बात का ध्यान रखना चाहिए. ब्रेकफास्ट न करने पर दिनभर थकान महसूस होती है, एकाग्रता में कमी आने के साथ-साथ कार्यक्षमता भी प्रभावित होती है.



खाना चबाकर न खाना :

अधिकतर लोगों में खाना अच्छी तरह से चबाकर न खाने की बुरी आदत होती है. शोधकर्ताओं के अनुसार, अच्छे स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी है कि खाने को अच्छी तरह से चबा-चबाकर खाया जाए, लेकिन जो लोग खाने को पूरी तरह से चबाकर नहीं खाते हैं, उनका पाचन तंत्र सुचारू रूप से काम नहीं करता. पाचन तंत्र के सही ढंग से काम न करने के कारण उन्हें कब्ज़, एसिडिटी और गैस की समस्या हो सकती है.

ज़्यादा कॉफी पीना :

अनहेल्दी आदतें

प्रतिदिन कॉफी पीने के बहुत फ़ायदे होते हैं. कॉफी में ऐसे अनेक एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो हमारी याददाश्त को बढ़ाते हैं, लेकिन ज़रूरत से ज़्यादा कॉफी का सेवन सेहत को हानि पहुंचाता है. औसतन एक व्यक्ति के लिए दो से चार कप कॉफी पीना सामान्य है, लेकिन चार से अधिक कप कॉफी पीने से एंज़ायटी, इंसोम्निया (अनिद्रा) और शरीर में कंपकंपी होने लगती है, जिसके कारण सिरदर्द, ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं. इसके अलावा कॉफी में मौजूद कैफीन नामक तत्व बोन मास डेंसिटी को कम करता है. अधिक मात्रा में कॉफी पीने से हड्डियां कमज़ोर होती हैं और ऑस्टियोपोरोसिस होने की संभावना बढ़ जाती है.



ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ करना : 

सही एक्सरसाइज़ आपको फिट और फ्रेश होने का एहसास कराती है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ करना भी आपको बीमार बना देता है. जी हां, ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ करने से घुटनों को नुक़सान पहुंचता है, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस होने का ख़तरा होता है. अधिक एक्सरसाइज़ करने से थकान महसूस होती है. कई बार मांसपेशियों में खिंचाव आ जाता है. एक शोध के अनुसार, ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ करने से ब्लड प्रेशर बढ़ता है, जिससे दिल का दौरा पड़ने की संभावना ब़ढ़ जाती है.

भारी बैग कैरी करना :

हैवी बैग्स उठाने से क्रॉनिक बैक पेन, कंधे और गर्दन में दर्द जैसी समस्याएं होती हैं. हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, 5.5 किलोग्राम से लेकर 7 किलोग्राम तक का भारी बैग उठाने से गर्दन, कंधे व पीठ में दर्द शुरू होने लगता है, इसलिए बैग ख़रीदते समय ऐसा बैग ख़रीदें, जिसमें हैवी मटेरियल का इस्तेमाल न किया गया हो. हैवी मटेरियलवाले बैग में सामान भरने के कारण बैग और भी भारी हो जाता है और गर्दन व कंधों की मांसपेशियों में खिंचाव आने लगता है, जिसके कारण गर्दन, कंधे व पीठ में दर्द होने लगता है. इसके अलावा पतली स्ट्राइप्सवाले बैग से भी ब्लड सर्कुलेशन रुकने का ख़तरा होता है.



हाई हील पहनना :

अधिकतर महिलाएं हाई हील को फैशन एक्सेसरीज़ के तौर पर अपने वॉर्डरोब में ज़रूर रखती है, यह जानते हुए भी कि हाई हील सेहत को नुक़सान पहुंचाती है. हाई हील पहनने से स़िर्फ पैरों में ही दर्द नहीं होता, बल्कि शरीर के अन्य भागों में भी तकली़फें बढ़ जाती हैं. एक अध्ययन के अनुसार, लगभग 70% महिलाएं हाई हील पहनती हैं, जिनमें से 90% महिलाओं को कंधे, पीठ, घुटने और जोड़ों के दर्द की समस्या होती है. हाई हील पहनने से सबसे ज़्यादा दबाव पैरों पर पड़ता है, जिसके कारण बॉडी पोश्‍चर बिगड़ने लगता है. हाई हील का असर स्पाइन पर भी पड़ता है, जिससे पीठ और पिंडलियों में दर्द बढ़ने लगता है.



रात को सोने से पहले ब्रश न करना :

ज़्यादातर लोग रात को सोने से पहले ब्रश करने से कतराते हैं. उनकी यह आदत न केवल उनके स्वस्थ दांतों के लिए हानिकारक है, बल्कि उनके हेल्दी रिलेशिपशिप में भी दूरी का कारण बनती है. अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के डेंटिस्ट किमबर्ली हाम्स के अनुसार, दांतों की अच्छी सेहत के लिए दिन में दो बार ब्रश ज़रूर करना चाहिए. क्योंकि दिनभर खाते रहने के कारण दांतों पर प्लाक की परत जम जाती है, जिसके कारण दांतों में छिपे बैक्टीरिया एक्टिव हो जाते हैं. इसलिए जब भी आप खाना खाते हैं, तो ये बैक्टीरिया एसिड का उत्पादन करना शुरू कर देते हैं, जिससे दांतों में सड़न और सांसों में दुर्गंध की समस्या होने लगती है. इन समस्याओं से बचने के लिए दिन में 2 बार ब्रश करना ज़रूरी है.

अनहेल्दी आदतें



पूरी नींद न लेना :

स्लीप नामक पत्रिका में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, जो लोग 6 घंटे या 6 घंटे से कम नींद लेते हैं, तो उन्हें कार्डियोेवैस्कुलर डिसीज़, जैसे- दिल की बीमारी, लो ब्लड प्रेशर, तनाव, अवसाद जैसी समस्याएं हो सकती हैं. नींद पूरी न होने के कारण पाचन क्रिया धीमी हो जाती है, जिससे खाना पचने में मुश्किल होती है. इनके अलावा एकाग्रता में भी कमी आने लगती है.

यूरिन रोकना : 

यूरिन रोकना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है, यह जानते हुए भी लोगों में यूरिन रोकने की बुरी आदत होती है. यूरिन के ज़रिए शरीर के विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं. अगर थोड़ा-सा भी यूरिन शरीर में रह जाता है, तो संक्रमण होने का ख़तरा बढ़ जाता है. 2-3 घंटे से अधिक समय तक यूरिन रोकने से किडनी स्टोन और ब्लैडर में सूजन की समस्या हो सकती है. बहुत देर तक यूरिन रोकने से यूटीआई (यूरिन ट्रैक्ट इंफेक्शन) की समस्या हो सकती है, जिसके कारण यूरिनरी ट्रैक में दर्द और यूरिन के साथ-साथ खून भी आने लगता है.

सखियों मुझे लगता है की अब आप लोग समझ गये होंगे ये छोटी-छोटी दिखने वाली आदते वास्तव में परिजनों के लिए कितनी गंभीर है, आपको अगर मोना गुरु का ये लेख पसंद आया हो तो आप इसे फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर अपने मित्रों के साथ भी शेयर कर सकते है. शेयर करने के लिए नीचे लिंक दिए गये है.

“मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है. 

इमली अर्क

इमली अर्क के फ़ायदे – जिनसे परिवार रहेगा हमेशा स्वस्थ और निरोगी

इमली अर्क के नुस्खे – जिनसे परिवार रहेगा हमेशा स्वस्थ

इमली का इस्तेमाल लगभग खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। फरवरी और मार्च के महीनों में इमली पकना भी शुरू हो जाती है। स्वाद में खट्टी होने के कारण यह मुंह को भी साफ रखती है। खट्टे-मीठे स्वाद के अलावा इमली सेहत से भरी भी होती है। इमली में कई पोषक तत्व जैसे विटामिन ‘सी’, ‘ई’, कैल्शियम, आयरन, फॉस्फोरस, पोटैशियम, मैगनीज और फाइबर भरपूर मात्रा में होते है। आज मोना-गुरु आपको  इमली से सेहत को होने वाले कुछ फायदों के बारे में जानकारी देगी और यकीन मानिए ये आपको पता होना ही चाहिए.

इमली के अगर आपको सारे लाभ लेने है तो आप इमली अर्क बना ले, इसको बोतल में भर कर फ्रिज में रख ले और परिवार को रोजाना इसको देने की आदत डाले , 6 वर्ष से उपर के बच्चों को रोजाना दो छोटे चम्मच और बड़े लोग लगभग चोथाई कप इसको रोजाना खाने के बाद अगर लेंगे तो परिवार हमेशा स्वस्थ और निरोगी रहेगा.

इमली अर्क बनाने की विधि :

एक लीटर पानी में लगभग 250 ग्राम इमली को डालकर अच्छे से उबाल ले, पानी जब लगभग 100 से 150 ग्राम तक कम हो जाए तब इसे उतार ले और ठंडा करके गूदे को अच्छे से मसल कर सारे अर्क को छान ले स्वादानुसार काला नमक मिलाकर बोतल में भरकर रख ले. ये आपके पास लगभग 800 ग्राम इमली अर्क तैयार है

1. भूख बढ़ाएं
इमली अर्क को सुबह और शाम खाना खाने से एक घंटा पहले रोजाना दो-दो  चम्मच बच्चों को पिलाइए. तीन दिनों में ही आपको उनकी भूख में फर्क दिख जाएगा.

2. दुरुस्त पाचन क्रिया
इमली के सेवन से पाचन क्रिया भी दुरुस्त रहती है, कब्ज आजकल एक बिलकुल एक सामान्य समस्या है, इसके निवारण हेतु इमली अर्क को लगभग चौथाई कप खाने के बाद दोनों टाइम रोज पीजिये.

3. वजन करें कम
अगर आप बढ़ते वजन से परेशान है तो इमली काफी मददगार साबित हो सकती है। इमली में अधिक मात्रा में हाइड्रोऑक्साइट्रिक एसिड होता है, जो फैट को जलाने वाले एन्जाइम को बढ़ाने में मदद करता है। इसके लिए भी रोज खाने के बाद आधा कप इमली अर्क पीना शुरू करे.

इमली अर्क



4. मजबूत नर्वस सिस्टम
इमली में थियामाइन से भरपूर होती है। थियामाइन तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाने और मांसपेशियों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है। यह नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करने में मदद करती है।

5. डायबिटीज कंट्रोल
इमली में ऐसा तत्व होता है, जो कार्बोहाइड्रेट्स को शुगर में अवशोषित और परिवर्तित करने से रोकता है, जो ब्लड शुगर को बढ़ने से रोकने में मदद करता है। रोज सुबह खाली पेट लगभग चौथाई कप  इमली अर्क पीजिये आपकी शुगर कंट्रोल में रहेगी.

6. चक्कर आने पर करें मदद
अगर आपको चक्कर आने की समस्या रहती है तो रोजाना सुबह दो चम्मच इमली अर्क में थोडा शहद मिला कर पीजिये, कुछ ही दिनों में चक्कर आने बंद हो जायेगे.

इमली अर्क



मित्रों ये थी “इमली अर्क” के विषय में जानकारी जिसका प्रयोग करके आप अपने परिवार को स्वस्थ रख सकते है, आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो नीचे दिए गये लिंक्स पर क्लिक करके आप इसे व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर अपने मित्रों के साथ भी भी शेयर कर सकते हैं.इसके अतिरिक्त यदि आप कुछ सवाल भी पूछना चाहे अथवा इसके विषय में कुछ और अपनी भावना व्यक्त करना चाहें तो तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हम तक पहुंचा सकते है.

( मोना-गुरु हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है )

मोटापा

मोटापा वैसे ही चला जाएगा अगर बदल देंगे ये रात की छोटी-छोटी आदतें

मोटापा वैसे ही चला जाएगा अगर बदल देंगे ये छोटी-छोटी आदतें

क्या आप मोटापा कम करने के लिए जिम में पसीना बहा रहे हैं या फिर डायटिंग के नाम पर अपने शरीर को टार्चर कर रहे हैं, फिर भी आपका मोटापा कम नहीं हो रहा है, तो एक नज़र अपनी लाइफस्टाइल संबंधी आदतों पर डालिए. जी हां, आपके मोटापे का एक अन्य और महत्वपूर्ण कारण है रात की ग़लत आदतें, जो आपके मोटापे को कम नहीं होने देती हैं. आइए जानें, कैसे?

1 क्या आप हैवी डिनर करते हैं?

क्या आप जानते हैं कि आपकी इस आदत से आपका मोटापा बढ़ सकता है? आपकी यह आदत आपको अपने फिटनेस गोल से भटका सकती है? अगर फिट रहना चाहते हैं, तो अपनी इस आदत को तुरंत बदल डालिए. सुबह के समय हम अधिक एक्टिव रहते हैं. शाम होने पर थकावट के कारण शरीर का एनर्जी लेवल कम होने लगता है, जिसके कारण शरीर को कम कैलोरी की आवश्यकता होती है. पर हैवी डिनर करने से पाचन तंत्र पर अनावश्यक लोड बढ़ने लगता है, जिसके कारण अतिरिक्त कैलोरी अतिरिक्त फैट में बदलने लगती है और धीरे-धीरे मोटापा बढ़ने लगता है.

2 क्या आप टीवी देखते हुए खाना खाते हैं?

अधिकतर लोगों को टीवी के सामने बैठकर भोजन करना अच्छा लगता है. यह जानते हुए कि उनकी इस आदत से न स़िर्फ ओवरईटिंग होती है, बल्कि मोटापा भी बढ़ता है. अमेरिकन जनरल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रीशन (2013) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, खाने के प्रति जागरूक न होने पर आप ज़रूरत से ज़्यादा खा सकते हैं और आपको पता भी नहीं चलेगा. अगर अपना ध्यान खाने पर केन्द्रित करके खाते हैं, तो आप निश्‍चित तौर पर कम खाएंगे. यदि टीवी देखते हुए खाते हैं, तो आप खाने के स्वाद को दिमाग़ी तौर पर महसूस नहीं कर पाएंगे और ओवरइंटिंग कर लेंगे.

3 रात के समय आप क्या खाते हैं?

मोटापा इस बात पर निर्भर नहीं करता है कि आप कितना (कम/ज़्यादा) खाते हैं, बल्कि इस बात पर निर्भर करता है कि रात के समय आप किस तरह का खाना खाते हैं यानी आपकी फूड चॉइस पर निर्भर करता है. अगर आप रात को क्रीम बेस्ड सूप और ग्रेवी, फ्राइड फूड, डेज़र्ट आदि खाते हैं, तो पचने में थोड़ा मुश्किल होता है, इसलिए रात के समय हाई कैलोरी फूड का सेवन नहीं करना चाहिए.

4 क्या आप डिनर के बाद ब्रश नहीं करते हैं?

डिनर के बाद ब्रश करना बहुत बोरिंग काम है. अपनी इस आदत से आप ख़ुद को न केवल अतिरिक्त स्नैक्स खाने से रोक सकते हैं, बल्कि मोटापा भी कंट्रोल कर सकते हैं. डायटीशियन्स के अनुसार, डिनर के बाद ब्रश करने की आदत से आप पोस्ट डिनर स्नैकिंग से बच सकते हैं. बहुत से लोग डिनर के बाद डेज़र्ट और कैलोरीवाले फूड खाते हैं, चाहे उन्हें भूख न हो तो भी. ब्रश करने के बाद वे ख़ुद को ऐसी चीज़ें खाने से रोक सकते हैं, क्योंकि ब्रशिंग जैसा बोरिंग काम दोबारा नहीं करना चाहते. परिणामस्वरूप मोटापा नहीं बढ़ेगा.

5 खाने के बाद क्या आप वॉक पर नहीं जाते हैं?

अगर नहीं जाते हैं, तो जाना शुरू करें. एक अध्ययन के अनुसार, अगर आप रात को खाने के बाद वॉक करते हैं या फिर 5 मिनट तक वज्रासन में बैठते हैं, तो निश्‍चित रूप से आपका वज़न नियंत्रित रहेगा. यदि आप अपनी पाचन प्रक्रिया और मेटाबॉलिज़्म में सुधार करना चाहते हैं, तो डिनर के बाद वॉक ज़रूर करें. इससे आपका मोटापा नियंत्रित रहेगा और आपका मूड भी फ्रेश होगा.

6 क्या आप रात को मोबाइल या लैपटॉप पर व्यस्त रहते हैं?

अधिकतर लोगों में यह आदत होती है सोने से पहले मोबाइल-लैपटॉप पर अपने ईमेल चेक करना, अगले दिन की टु डू लिस्ट बनाना, अगले प्रोजेक्ट या असाइनमेंट का ड्राफ्ट तैयार करना आदि, जिसकी वजह से अनावश्यक रूप से तनाव बढ़ता है. अधिक तनाव होने से कार्टिसोल नामक हार्मोन का उत्पादन होता है. इस हार्मोन में ऐसे गुण होते हैं कि तनाव की तीव्रता स्वत: ही बढ़ जाती है, जिसके कारण फैट के स्तर में वृद्धि होने लगती है. इसके अलावा कार्टिसोल मेटाबॉलिज़्म को धीमा कर देता है, जिसके कारण खाना सही तरह से नहीं पचता है और मोटापा बढ़ने लगता है.

7 क्या आप रात को देर से सोते हैं?

देर रात तक जागने से मंचिंग करने के चांस काफ़ी बढ़ जाते हैं. मंचिंग के दौरान भूख बढ़ानेवाले हार्मोंस (घ्रेलीन- जिसे हंगर हार्मोन भी कहा जाता है) का स्तर बढ़ जाता है और वो स्ट्रेस बढ़ानेवाले हार्मोंस (लेप्टिन) के स्तर को कम करता है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि बदलती लाइफस्टाइल और बढ़ते वर्कलोड के कारण अधिकतर लोग रात को देर से खाना खाते हैं, जिससे उनके शरीर का मेटाबॉलिज़्म बिगड़ने लगता है और धीरे-धीरे मोटापा हावी होने लगता है.

8 क्या आप सायकियाट्रिक मेडिसिन लेते हैं

रात को सोने से पहले कुछ लोग एंटीडिप्रेशन और सायकियाट्रिक मेडिसिन लेते हैं, जिससे मोटापा बढ़ता है. अगर आप अपने मोटापे को कंट्रोल करना चाहते हैं, तो इन दवाओं को अपनी मर्ज़ी से बंद न करें, बल्कि अपने डॉक्टर से बात करके इनके डोज में बदलाव करें. ऐसी कोई एक मेडिसिन नियमित रूप से न खाएं, जिसका कोई साइड इफेक्ट हो.

9 क्या आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं?

पर्याप्त नींद न लेना और आवश्यकता से अधिक नींद लेने से मोटापा बढ़ता है. इसका कारण है कि आपका शरीर कैलोरी को बर्न करने में सक्षम नहीं है. अगर आप 7-8 घंटे से कम सोते हैं या फिर ज़रूरत से ज़्यादा सोते हैं, तो इसका मतलब है कि आपका मेटाबॉलिज़्म ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है.

हाल ही में हुए एक अध्ययन से यह साबित हुआ है कि जो लोग केवल 6 घंटे की नींद लेते हैं, उनका वज़न, उन लोगों की तुलना में अधिक होता है, जो 8-10 घंटे की पर्याप्त नींद लेते हैं. जो लोग 6 या 6 से कम घंटे सोते हैं, उनमें मोटापे के लक्षण दिखाई देते हैं. इसके अलावा पूरी नींद न लेने के कारण डायबिटीज़ और इंसोम्निया के होने की संभावना भी बढ़ जाती है.

10 क्या आप कैफीन या अल्कोहल का सेवन करते हैं?

अगर आप रात के व़क्त कैफीन और अल्कोहल का सेवन करते हैं, तो अपनी इस आदत को तुरंत सुधार लें. आपकी यह आदत धीरे-धीेरे आपके बढ़ते वज़न की ओर संकेत करती है. कैफीन और अल्कोहल में बहुत अधिक कैलोरी होती है. इनका सेवन करने से नींद में रुकावट आती है. नींद में बाधा आने के कारण मेटाबॉलिज़्म धीमा हो जाता है और शरीर में अतिरिक्त फैट जमने लगता है.

रात को जल्दी खाने के फ़ायदे

  • लंच और डिनर के बीच में बहुत अधिक अंतर होने के कारण भूख अधिक लगती है. इस अंतराल को कम करें. टी टाइम में स्नैक्स खाएं.
  • डिनर के दौरान टीवी न देखें, क्योंकि टीवी देखते हुए ओवरईटिंग की संभावना बढ़ जाती है.
  • कोशिश करें कि डिनर रात 9 बजे से पहले कर लें.
  • अगर यह संभव न हो, तो टी टाइम पर लाइट स्नैक्स लें और डिनर में हल्का भोजन करें.
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि डिनर अवॉइड न करें. कम से कम सूप, सलाद या फ्रूट्स ज़रूर खाएं.
  • डिनर बैलेंस्ड लेकिन लाइट होगा, तो अगले दिन भी आप फ्रेश महसूस करेंगे.
  • डिनर में लो कार्ब और हाई प्रोटीन फूड लें. इन्हें पचने में अधिक समय लगता है.
  • लगातार कई दिनों तक डिनर में फ्राइड फूड और डेज़र्ट न लें. अगर इन्हें खाने की बहुत अधिक क्रेविंग हो, तो सुबह नाश्ते में लें.
  • डिनर के बाद तुरंत सोने की बजाय 5 मिनट वज्रासन में ज़रूर बैठें.
  • रात के समय चाय, कॉफी और चॉकलेट के सेवन से बचें.
  • इसकी बजाय गरम दूध में इलायची पाउडर डालकर पीएं.

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो दिए गये लिंक्स पर क्लिक करके आप इसे व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर अपने मित्रों के साथ आगे भी शेयर कर सकते हैं.

( “मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है )

ऐसे ही अपडेट नियमित  पाने के लिए मोना-गुरु का फेसबुक पेज भी लाइक कीजिये

गर्म पानी पीने के फायदे

शरीर से सभी अशुद्धियों को बाहर निकालने का सबसे आसान और मुफ्त तरीका

गर्म पानी – जो शरीर से सभी अशुद्धियों को बाहर निकालने की ताकत रखता है

प्रिय सखियो,
आज अपने लेख के द्वारा मोना गुरु आपको हमारे शरीर में बसी सभी अशुद्धियों को निकालने का एक बिलकुल ही मुफ्त तरीका बताने जा रही है, इस तरीके का प्रयोग कीजिये और अपने शरीर में आये हुए परिवर्तनों को मात्र एक माह में महसूस कीजिये,

आपने लोगों को कहते हुए सुना होगा कि सेहतमंद रहने के लिए दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना बहुत जरूरी होता है, और यह सही भी है , लेकिन यदि इसी पानी को थोडा सा गुनगुना कर लिया जाए तो इसकी शक्ति और तासीर में कमाल का परिवर्तन आ जाता है और ये कई गुणों से युक्त हो जाता है .गर्म पानी पीने से सेहत को कई तरह से फायदा पहुंचता है. ये शरीर का कई बीमारियों से बचाव करता है और भी इसके अनेक गुण है , आइए जानें गर्म पानी पीने के फायदे…




1. वजन कम करें
अगर आपका वजन लगातार बढ़ रहा है और लाख कोशिशों के बावजूद कुछ फर्क नहीं पड़ रहा है तो, गर्म पानी में शहद और नींबू मिलाकर लगातार तीन महीने तक पिएं. आपको फर्क जरूर महसूस होगा. इस क्रिया में और तेजी लाने के लिए खाना खाने के बाद एक ग्लास गर्म पानी पीना आज से ही शुरू कर दीजिये, ये आपके पाचन की गति को तेज कर देगा, जिससे आपका फैट तेजी से जलेगा और आपका वजन भी जल्दी कम होगा

गर्म पानी पीने के फायदे

2. बॉडी करे डिटॉक्‍स
गर्म पानी पीने से बॉडी को डिटॉक्‍स करने में मदद मिलती है और यह शरीर की सारी अशुद्धियां को बहुत आसानी से साफ कर देता है. गर्म पानी पीने से शरीर का तापमान बढ़ने लग जाता है, जिससे पसीना आता है और इसके माध्यम से शरीर की अशुद्धियां दूर हो जाती हैं.

गर्म पानी पीने के फायदे



3. बढ़ती उम्र थाम लें
चेहरे पर पड़ती झुर्रियां आपको परेशान करने लगी हैं तो चिंता की कोई बात नहीं है. आज ही से गर्म पानी पीना शुरू कर दें. कुछ ही हफ्तों में स्किन में कसाव आने लगेगा और स्किन चमकदार भी हो जाएगी.

4. बालों के लिए है फायदेमंद
गर्म पानी का सेवन बालों के लिए भी बहुत फायदेमंद है. इससे बाल चमकदार बनते हैं और यह इनकी ग्रोथ के लिए के लिए भी बहुत लाभदायक है.

गर्म पानी पीने के फायदे



5.पेट को रखे दुरुस्‍त
गर्म पानी पीने से पाचन क्रिया अच्छी रहती है और यह गैस की समस्या में भी राहत देता है. खाना खाने के बाद एक ग्लास गर्म पानी पीने की आदत जरूर डालें. ऐसा करने से खाना जल्‍दी पच जाता है और पेट हल्‍का रहता है.

6. जोड़ों का दर्द करें दूर
गर्म पानी जोड़ों के दर्द को भी कम करता है. हमारी मांसपेशियों का 80 प्रतिशत भाग पानी से बना हुआ है. इसलिए गर्म पानी से मांसपेशियों की ऐंठन भी दूर होती है.

गर्म पानी पीने के फायदे




7.पीरियड्स में आराम : पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अक्सर पेट दर्द की समस्या होती है। क्योंकि इस दौरान पैन मसल्स में खिंचाव होता है जो पेट दर्द का कारण बनता है। ऐसे में 1 गिलास गुनगुना पानी पीने से दर्द से राहत मिलती है।

8. भूख बढ़ाए : जिन लोगों को भूख न लगने की समस्या होती है, उन्हें एक ग्लास गर्म पानी में काली मिर्च, नमक और नींबू का रस डालकर पीना चाहिए। इससे भूख बढ़ जाती है।

गर्म पानी पीने के फायदे



9. मुंहासे : मुंहासों की समस्या लड़कियों में ही नहीं आजकल लड़कों में भी देखी जा सकती है। इससे बचने के लिए खाली पेट सुबह गर्म पानी पिएं। इससे पिंपल्स से भी छुटकारा मिल जाएगा।

10.नाक और गले की समस्या में आराम : अगर नाक और गले में दिक्कत हो तो सांस लेने व कुछ खाने में बड़ी परेशानी होती है। खराश और खांसी भी बड़ी समस्या होती है। इन सभी रोगों से बचने और आराम पाने के लिए गर्म पानी से गरारा करें और गर्म पानी पिएं।

गर्म पानी पीने के फायदे




तो देखा आपने सखियों मात्र गर्म पानी पीने से हम अपने शरीर में से कितनी बीमारियों को दूर रख सकते है और अपने आप को कितना स्वस्थ रख सकते है, तो आज से ही इस अच्छी आदत को अपनाइए और परिवार में सबको स्वस्थ बनाइए.

“मोना-गुरु” हर महिला की वो आभासी (वर्चुअल) सहेली है ,जो रोजमर्रा की हर मुश्किल का आसान हल तो देती ही है साथ ही अपनी सखियों को घर-संसार से जुड़ी हर बातों में आगे भी बनाये रखती है.